Kyun ,kaise aur kinhe hota hai Blood cancer janiye iske Karan aur treatment

What is blood cancer
ब्लड कैंसर को Leukaemia भी कहते हैं ।ब्लड कैंसर का सामान्य अर्थ सफेद रक्त कोशिकाओं से है पर प्रायः इसे रक्त का कैंसर कहा जाता है ।यह उन कोशिकाओं का कैंसर है जिनसे रक्त कणिकाओं का निर्माण होता है ।
ब्लड कैंसर एक ऐसी स्थिति है जिसमें सारे शरीर के श्वेत कोशिका जनित ऊतकों का असामान्य एवं अत्यधिक प्रफलन होने लगता है। श्वेत कोशिका श्रृंखला की कोशिकाओं का सृजन इतनी तेजी से होने लगता है कि अधिक संख्या में अपरिपक्व कोशिकाएं भी परिसंचरण में आ जाती है। परिणाम स्वरुप परिसरीय रक्त में संपूर्ण श्वेत कोशिका गणना बहुत ही बढी हुई होती है तथा उस में अधिकांश कोशिकाएं अपरिपक्व होती हैं ।

 रक्ताल्पता क्या है इसके होने के कारण आदि की जानकारी के लिए इसे पढ़ें
Anaemia in hindi

Leukaemia किसी भी उम्र के लोगों में होने वाला रोग है ,पर बच्चों में अधिक पाया जाता है। रक्त के अंदर सफेद कोशिकाओं की संख्या बढ़ जाती है ।प्रचलित भाषा में इसको रक्त कैंसर एवं मेडिकल की भाषा में Leukaemia कहा जाता है ।
श्वेत कणों  का कार्य शरीर के अंदर प्रविष्ट हुए जीवाणुओं को नष्ट करना होता है ।यह श्वेत कण भी लाल रक्त कण की भांति अपनी सामान्य स्थिति में आने से पूर्व विभिन्न रूपों एवं विभिन्न स्थितियों से गुजरते हैं ।जब श्वेत रक्त कण अपनी सामान्य स्थिति में पूर्ण रूप से परिपक्व नहीं हो पाते अथवा अपरिपक्व ही बने रहते हैं तो ऐसी स्थिति को ब्लड कैंसर कहते हैं ।
ब्लड कैंसर का कारण
 ब्लड कैंसर कैसे होता है यह आज भी एक रहस्य है ।कैसे और किन परिस्थितियों में श्वेत कोशिका श्रृंखला की कोशिकाएं  असामान्य रूप से बढ़ने लगती हैं यह बात एक रहस्य बनकर रह गई है। इसके बारे में जो भी अनुमान लगाए गए हैं ,वह कुछ इस प्रकार हैं -
1-अर्बुद  परिकल्पना
 साधारणतः इसे रक्त कैंसर कहा जाता है ।आज तक जो भी जानकारी मिली है ,,इसके आधार पर सबसे ज्यादा संभावना यही है कि यह एक प्रकार की  कैंसर प्रक्रिया है जो श्वेत कोशिका श्रृंखला को आक्रांत करती है ।
2-संक्रमण परिकल्पना - यह परिकल्पना प्रयोगशाला में प्रयोगों के आधार पर की गई है ।

 इन्फेक्शन क्या है और इन्फेक्शन से होने वाली बीमारियों व इनके कारण एवं बचाव आदि की जानकारी के लिए पढे
Infection se hone wale diseases

3-क्रोमोजोमी दोष- एक कारण यह भी है कि ल्यूकीमिया आक्रांत व्यक्ति में किसी भी क्रोमोसोमी दोष के  परिणाम स्वरुप होता है।चिरकारी मज्जाभ ल्यूकीमिया  तेजी से बढ़ती हुई कोशिकाओं में 'फिलाडेल्फिया क्रोमोजोम' का पाया जाना इस धारणा की पुष्टि करता है। डाउन सिंड्रोम( जिसमें 21 वें  क्रोमोसोम में दोष होता है) के केशों ल्यूकीमिया का आघटन ज्यादा होता है ।
4-आयनीकरण रेडिएशन -
ऐसा ज्ञात हुआ है कि रेडिएशन  यदि शरीर के अंदर अत्यधिक मात्रा में प्रवेश कर गया तो अस्थियों की कार्य क्षमता को बढ़ाकर रक्त कैंसर को जन्म देता है ।इसीलिए कुछ वर्षों पूर्व इंग्लैंड में व्यक्तियों की मृत्यु के कारणों का सर्वेक्षण किया गया तो ज्ञात हुआ कि ब्लड कैंसर से मरने वालों की संख्या x ray का कार्य करने वालों की थी ।इसी प्रकार कुछ डाक्टर कैंसर के उपचार का साधन न जानते हुए भी रोगियों का उपचार रेडिएशन द्वारा कर  देते हैं । ऐसे कैंसर के रोगी अन्य स्थान के कैंसर के अतिरिक्त रक्त कैंसर से भी पीड़ित होते हैं । इन्हीं सब कारणों से हर व्यक्ति को इस बात की सलाह दी जाती है कि बिना किसी कारण के  x rayद्वारा जांच नहीं करानी चाहिए, और विशेषकर गर्भवती महिला को।क्योंकि गर्भवती महिला इसके दुष्प्रभाव से स्वयं तो प्रभावित होती ही है ,साथ ही उसके अंदर पल रहा शिशु अथवा  गर्भ भी प्रभावित होता है ।और उस शिशु को यदि आवश्यकता से अधिक  x rays मिल गई तो  Blood cancer हो सकता है अथवा उसके अंदर किसी प्रकार की असामान्यता भी आ सकती है ।
5-चपापचयी दोष-- एक संभावना है यह भी है कि आक्रांत कोशिकाओं की चपापचयी क्रिया में कोई परिवर्तन हो जाता हो।
6- इम्यून प्रक्रिया -इस प्रक्रिया का भी  योगदान ब्लड कैंसर पैदा करने में हो सकता है ।

ब्रेन अटैक क्या है इसके होने के क्या कारण है आदि की जानकारी के लिए इसे भी पढ़ें
Brain attack kaise hota hai


Blood cancer बच्चों में अन्य कैंसरों की अपेक्षा अधिक होती है तथा 3 से 15 वर्ष के बच्चों की मृत्यु का एक प्रमुख कारण भी है ।
बच्चों में प्रमुख रूप से ए क्यूट लिंफोसाईटिक ल्यूकेमिया होती है ।
समस्त ल्यूकीमिया के आधे से अधिक रोगी 60 वर्ष से अधिक उम्र के होते हैं ।
Chronic रोगों का उपचार प्रायः संभव नहीं हो पाता है ।
Leukaemia के कोई प्रमुख प्रारंभिक लक्षण नहीं होते हैं ।
उपचार --रोग का उपचार रोग की स्थिति तथा रोग के प्रकार पर निर्भर करता है। इस रोग के उपचार में रक्त का बदलाव अर्थात रक्त चढ़ाना आवश्यक होता है साथ ही औषधि तथा विकिरण चिकित्सा रोग की स्थिति पर निर्भर है।
रोग से बचने के उपाय-- रोग से बचने के लिए गर्भवती महिलाओं को विकिरण से बचना चाहिए।
 X-ray की जांच आवश्यकता पड़ने पर ही करानी चाहिए।
 इसी प्रकार कैंसर का उपचार किसी कैंसर विशेषज्ञ से ही करना चाहिए क्योंकि जो किरणें  कैंसर को ठीक करती हैं ,वहीं कैंसर पैदा भी कर सकती हैं।
Previous
Next Post »