Make up karne ke useful tips

1.     फाउंडेशन--
 आपकी त्वचा सूखी, सामान्य, तैलीय या मिश्रित कैसी भी हो, हर प्रकार की त्वचा के लिए फाउंडेशन उपलब्ध हैं ।
सूखी त्वचा के लिए तर क्रीमी फाउंडेशन है, जिसमें त्वचा के सूखेपन से बचाव के लिए अतिरिक्त मॉइस्चराइजर  उपस्थित होते हैं।
सामान्य त्वचा के लिए तरल या क्रीमी फाउंडेशन दोनों ही चलेंगे।
तैलीय त्वचा के लिए चिकनाई रहित फाउंडेशन दोनों ही चलेंगे।। तैलीय त्वचा के लिए चिकनाई रहित फाउंडेशन केक और मिश्रित त्वचा पर सामान्य  या तैलीय त्वचा के लिए उपलब्ध फाउंडेशन ही लगाएं।
यदि फाउंडेशन पहले ही चुन लिया है तो फाउंडेशन लगाने से पहले गालों के उपर माइश्चराइजर लगाएं ।साफ सुथरी और हल्की माइश्चराइजर  युक्त त्वचा पर फाउंडेशन लगाएं। अपनी त्वचा के रंग का या उससे एक गहरे रंग का  फाउंडेशन चुने। ंंथोड़ा सा फाउंडेशन अपने माथे, नाक, ठुड्डी, गर्दन के सामने और पिछले हिस्से और कानों पर लगाएं। 
ऊपर की ओर तथा बाहरी  ओर ,पूरे चेहरे, जबड़े के अंदर की तरफ, कानों के पीछे, ऊपर पलकों के चारों ओर सहलाते हुए फाउंडेशन को फैलाएं ।
चेहरे और गर्दन के सारे हिस्सों पर फैला दें। मिलाने और रगड़ने के लिए कुछ अतिरिक्त सेकेंड ही आपको इच्छित फल दे सकते हैं।
फाउंडेशन को लगाने की मुख्य आवश्यकता कोमलता और पारदर्शिता प्राप्त करने के लिए है। ताकि आपकी त्वचा सुंदर उत्तेजक और प्राकृतिक लगे, चाहे दिन का प्रकाश हो या कृत्रिम प्रकाश।
इसे भी पढे
How to use make up


2.     पाउडर- पाउडर के दो उपयोग होते हैं पहला मेकअप की चमक रहित  सज्जा को लगातार टिकाए रखने के लिए और दूसरा अवशोषण और चमक को दिन भर बनाए रखने के लिए ।
लूज पाउडर मेकअप को टिकाए रखने के लिए सबसे उत्तम है ।एक बड़े पफ या एक साफ रू की गोली का उपयोग करें।
इसे पाउडर में डुबोकर हल्के से पूरे चेहरे के ऊपर थपकें और दवाएं। पफ को ना तो रगडे़ं और ना ही फिसलाएं वरना यह आपके कोमलता से लगे फाउंडेशन को बिगाड़ देगा ।एक कोमल ब्र श की सहायता से अनावश्यक पाउडर को हल्का झाड़कर निकाल दें। वहीं रंग प्रयोग करें, जो आपकी फाउंडेशन से मेल खाएं अथवा बेबी पाउडर की तरह रंग हीन हो। रू लगाने से पहले पाउडर लगाना चाहिए।
3.  रूज-     रूज अपनी लिपस्टिक के मिलते जुलते रंग का ही चुने परंतु यदि आप समान सेट का रू नहीं ले सकती तो लिपस्टिक ही रूज में प्रयोग कर सकती हैं।
रूज आपकी आंखों और गालों पर चमक लाता है ।अपनी अंगुलियों के बीच में थोड़ा सा रूज लेकर मसलें और मुस्कुराएं अपनी मुस्कुराहट की उभारों के बीच तीन बिंदु रूज लगाएं ।
अपनी गाल की हड्डी के प्राकृतिक घुमाव के साथ, अंदर की ओर, नाक की दिशा में आंख की पुतली की तरफ एक लकीर में फैलाते हुए लगाएं जबकि आप बिल्कुल सीधा देख रही हों। बाहरी हिस्सा बराबर करते हुए ऊपर की ओर हल्का विलीन करते हुए वहां तक लगाना चाहिए जहां कि वह निचली पलकों की कोनों को लगभग छूने लगे ।सारे किनारों को उंगलियों के पोर से इस प्रकार मिलाया जाना चाहिए कि वह फाउंडेशन के रंग में विलीन हो जाए।
रूज को हमेशा कोमलता से लगाया जाना चाहिए। रू का अंधाधुंध प्रयोग करके भद्दा दिखाई देने से बेहतर है कि आप रूज का प्रयोग नहीं करें।
यह भी पढ़ें

शादी या कैरियर
4.     आंखों का मेकअप-
आपकी आंखों को देखने में भी आकर्षक बनाया जा सकता है बशर्ते आप जानती हो कि उन्हें ऐसे कैसे बनाया जाए।
आंखों के सौंदर्य की दिशा में पहला कदम उचित आकार की भौहों का है। भौहों को उचित आकार में रखने के लिए अवांछित बालों को खींचकर निकाल दें। भौहों के अवांछित बालों को चिमटी से उखाड़ना या धागे के द्वारा उखाड़ना सबसे जाना पहचाना व अच्छा तरीका है।
शुरुआत करने के लिए रू का टुकड़ा, यू डी कोलन या एस्टृजेंट लोशन में डुबोकर  भौहों पर घूमाएं और थपथपाएं। इसके बाद अपने चिमटी लें और आसपास की त्वचा को कसकर रखें।
चिमटी से बालों को जड़ों के बिल्कुल पास से पकड़े और बालों के उगने की दिशा में कसकर झटका दें।हमेशा प्राकृतिक भौहों के नीचे की ओर से बाल खिंच कर न लेना कि ऊपर की ओर से नाक की हड्डी के ऊपर दोनों भौहों के बीच जो बाल उगते हैं वह अच्छे नजर नहीं आते इसलिए हमेशा उन्हें दोनों भौहों के बीच से निकाल दें याद रखने की सबसे सुंदर आंखें नहीं मानी जाती हैं जिनके बीच में काफी स्थान हो यह स्थान इतना विस्तृत हो सकता है कि इन आंखों के बीच में एक और आंख रखी जा सके प्लकिंग के बाद त्वचा पर आने वाली सूजन से बचाव के लिए एक बस का क्यूब कपड़े के टुकड़े में लपेटे और कोमलता से उस स्थान पर फैले और मालिश करें एक सजे हुए अनुकूल ग्रुप के लिए हर दूसरे दिन प्लकिंग बाल उखाड़ना की जानी चाहिए फिर भी अगर चिमटी की पकड़ में आने से बाल बहुत ज्यादा छोटे हैं तो इन्हें छिपाने के लिए थोड़ा सा फाउंडेशन उस स्थान पर लगाएं और ठीक प्रकार से त्वचा में मिलाएं ब्लीचिंग भी छुपाने में सहायक होती है
कम सघनता वाले स्थानों को भरने के लिए आईब्रो पेंसिल अनिवार्य है। यदि भौहें बहुत हल्की है तो उनका रंग गहरा, और लुप्त भौहों को दोबारा भी बनाया जा सकता है। आईब्रो पेंसिल के रंग के संबंध में आम नियम काले रंग का है क्योंकि भारत में महिलाओं में काली भौहें  सर्वाधिक पाई जाती हैं ।पेंसिल की नोक को बारीक सपाट बना लें, भौहों को जब दोबारा पेंसिल से बनाना शुरु करें तो नाक की ओर की भौह के किनारे से आंख के बाहरी कोने तक ले जाएं। कोशिश करें कि भौह की वास्तविक गोलाई का ही अनुसरण किया जाए।
भौंह का विस्तार कभी भी इतना ना करें कि आंख के बाहरी कोने के बहुत दूर तक फैल जाए।
भौहों की परिसज्जा बारीक लकीरों के द्वारा की जानी चाहिए ना कि मोटी लकीरों द्वारा।

 पेंसिल को हमेशा वास्तविक बालों को टिंट देने के लिए प्रयोग किया जाना चाहिए ना कि उनके बीच की त्वचा को।
वही दूसरी तरफ एक अच्छी आकृति वाली घनी भौहों  को पें सिल से संवारने की आवश्यकता ही नहीं पड़ती केवल थोड़ा सा बस है ब्रश करने के साथ कोल्ड क्रीम या वैसलीन ही पर्याप्त है।
5.     आईशैडो --आईशैडो आंखों को एक मोहक गहराई और रहस्य प्रदान करता है। प्रायः  यह तब अधिक प्रभावशाली होता है जब रिधान के रंग के साथ इसका सामंजस्य हो। दिन के लिए सुक्ष्मता से हल्के रंग चुने और शाम के समय कृत्रिम प्रकाश रंगों को कोमल बनाता है तब गहरे रंग धारण करें ।आई शैडो लगाने से पहले पलकों के ऊपर फाउंडेशन का प्रयोग करें क्योंकि यह आईशैडो के लिए एक अच्छा आधार बनाता है। आई शैडो केवल उपरी पलकों पर लगाना चाहिए। एक आंख को बंद करके उसके पास थोड़ा सा रंग लगाएं और ऊपरी पलक को लगभग छूते हुए आंख के अंदरूनी  ओर से बाहरी कोने तक लगाएं।
 आईशैडो ऊपर की ओर हल्का होता हुआ भौहों के नीचे नीचे ब्रश या तर्जनी उंगली के द्वारा मिलाना चाहिए। पलक के पास यह सबसे अधिक गहरी सैड का होना चाहिए। 2 सेड का भी प्रयोग किया जा सकता है पहले गहरे रंग के सेड का पलकों के बिल्कुल पास प्रयोग होना चाहिए। पलकों के बिल्कुल पास गहरे सैड  का प्रयोग आंखों को अतिरिक्त चमक प्रदान करता है।
6.     आईलाइनर- एक हल्की रेखा जो ऊपरी पलक के बिल्कुल समीप आईलाइनर के द्वारा खींची गई हो ,आंखों को बड़ा और चमकदार बनाती है। तरल आईलाइनर जो कि कोमल ब्रश के द्वारा लगा हो आश्चर्यजनक परिणाम देता है। ऊपरी पलक पर रेखा के लिए, आईशैडो को सही स्थिति में लगाने के बाद ब्रश को रंग में डूबाएं  और पलक के ऊपर कोने पर दृढता से रखकर पलकों के जितने भी समीप हो सके, एक पतली रेखा खींची जो कि आंख के आंतरिक कोने से शुरू होकर ठीक बाहर थोड़ा ऊपर की ओर घुमाव ले कर समाप्त हो जानी चाहिए। नीचे वाली पलक पर रेखा के लिए, निचली पलक को नीचे रखें और आंख से हटकर एक पतली रेखा जो कि आंख के आंतरिक कोने से निकलकर( ऊपरी पलक के समान ।)  निचली पलक के बाहरी कोने तक हल्का सा ऊपर की ओर झुकाव लिए हुए तर्जनी उंगली से लगाया जाना चाहिए बिल्कुल वैसे जैसे ऊपरी पलक पर खींची गई थी निचली रेखा को सावधानीपूर्वक मिलाएं ध्यान रखें कि पलक और रेखा के बीच में त्वचा ना दिखे।
7.     मस्कारा-- मस्कारा चमकीली आंखों वाले स्वरुप के लिए यह बहुत आवश्यक है कि पलके लंबी और मोटी, दृष्टिगोचर हों।
 पहले ऊपरी पलक को नीचे की ओर ब्रश  करें ।मस्कारा पंखे के नीचे अधिक अच्छी तरह लगता है पलकें हवा के कारण चिपकने नहीं चाहिए। 


Previous
Next Post »